DIVYA BAPU JI ( WALLPAPERS )

Tuesday, 2 September 2014

1238_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU


आपतियाँ पर्वत जैसी भले ही हों सब कुछ भयावह और अंधकार पूर्ण भले ही दिखे ,पर जान लो सब माया है । डरों मत,यह भाग जायेगी । इसे ठुकराओ और यह मर जायेगी ।डरो मत कितनी बार असफलता मिलेगी यह न सोचो, चिंता न करो । काल अनन्त है ।आगे बढ़ो पुनः पुनः ,प्रकाश अवश्य ही आवेगा ।
-Pujya Sant Shri Asharam Ji Bapu

Monday, 1 September 2014

1237_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

तुम अपने उपर अविश्वास कभी मत करो ,तुम इस जगत मे सब कुछ कर सकते हो ,कभी भी अपने को दुर्बल मत समझो । सभी शक्तियाँ तुम्हारे भीतर विधमान है ।
-Pujya Sant Shri Asharam Ji Bapu

Thursday, 28 August 2014

1236_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

कठिनाईयों से जितना डरोगे उतना ही वे ज्यादा भय दिखाती है और जोर पकडती है। यदि दुःख विपत्ति आये तो समझो इश्वर तुम्हारे साथ खेल कर रहे है । और यही समझकर दुःख में भी परम सुखी रहो ।
-Pujya Sant Shri Asharam Ji Bapu

Tuesday, 26 August 2014

1235_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

यदि किसी व्यक्ति मे सत्य ,पवित्रता और निःस्वार्थता- ये तीन बातें विद्मान हैं तो इस ब्रह्मांड में ऐसी कोई ताकत नही जो उसका बाल भी बाका कर सके । इन तीनों से सज्जित रहने पर मनुष्य सारे जगत का सामना कर सकता है ।
 -Pujya Sant Shri Asharam Ji Bapu

Monday, 25 August 2014

1234_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU




किसी की सहायता की अपेक्षा न रखो । क्या भगवान सारी मानवी सहायता की अपेक्षा अनन्त गुने अधिक नही है ? भगवान में विश्वास रखो । सर्वदा उन्ही का भरोसा रखो और बस तुम्हारे पैर सदा ठीक मार्ग में पड़ेंगे ,फिर कोई भी चीज तुम्हारा सामना न कर सकेगी ।
 -Pujya Sant Shri Asharam Ji Bapu

Friday, 22 August 2014

1233_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU


खड़े होओ,साहसी बनो ,शक्तिमान होओ । सारा उत्तरदायित्व अपने कंधे पर लो ,तुम्हें जो कुछ बल और सहायता चाहिए सब तुम्हारे ही भीतर है ।
 -Pujya Sant Shri Asharam Ji Bapu

Wednesday, 20 August 2014

1232_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU



मूर्खता को छोड कर हर हालत में आनंद का अनुभव करो । तुम्हें दुःख आ ही नही सकता । तुम दुःख को ग्रहण करते हो इसी से दुःख आता है । ग्रहण करना छोड दो फिर कोई भी दुःख तुम्हारे पास तक नही फटकेगा ।
-Pujya Sant Shri Asharam Ji Bapu

Tuesday, 19 August 2014

1231_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU




याद रक्खों निश्चय ,श्रद्दा ,विश्वास और आत्मस्वरूप की स्मृति ही तुम्हारी आत्मा की अनन्त शक्ति को प्रगट करने वाले चार महा द्वार हैं । इनकी शरण ग्रहण करो इनका आश्रय लो ।
 -Pujya Sant Shri Asharam Ji Bapu

Saturday, 16 August 2014

1230_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU


विपत्ति में धैर्य न खोकर जो लोग भगवद कृपा के विश्वास पर डटे रहते है और सत्य के पथ से जरा भी नही डिगते ,उनकी विपत्ति बहुत ही शीघ्र महान संपत्ति के रूप में बदल जाती है ।
-Pujya Sant Shri Asharam Ji Bapu

Video Gallery ( MuSt WaTcH )

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...